साइकोलॉजी  के अनुसार

दुनिया में कोई ऐसा पुरुष नहीं है जो एक ही महिला से आकर्षित हो

साइकोलॉजी  के अनुसार

साइकोलॉजी  के अनुसार

जो लोग भीड़ में अपना हाथ जेब में डालकर चलते हैं वह बहुत अधिक शर्मीले होते हैं

साइकोलॉजी  के अनुसार

साइकोलॉजी  के अनुसार

अगर आपका दिल टूटा है और आपका मन बहुत रोने की करता है तो उसे रोकिये मत, रोने दीजिये रोने के थोड़ी देर बाद ही आप के अन्दर सकारात्मक विचार पैदा हो जायेंगे

साइकोलॉजी  के अनुसार

शादी की अंगूठी हमारी उल्टे हाथ की तीसरी उंगली में इसलिए पहनाइ जाती है क्योंकि यह अकेली ऐसी उंगली है जिसकी नसें सीधे हमारे दिल से जुड़ी होती हैं

साइकोलॉजी  के अनुसार

जब इंसान ज्यादा टेंसन लेता है तो उसका खून गाढ़ा होने लगता है ऐसी स्थिति में इंसान को दिल का दौरा भी पड़ सकता है

साइकोलॉजी  के अनुसार

प्यार का मतलब सिर्फ रोमांस नहीं होता है बल्कि एक दूसरे की अपने आप से ज्यादा केयर करना भी होता है

साइकोलॉजी  के अनुसार

आप जितना ज्यादा साइकोलॉजी जानते हैं आपके सक्सेस होने के चांस बढ़ जाता है जिससे आप अपने मनपसंद कामों को जल्दी पूरा कर सकते हैं

साइकोलॉजी  के अनुसार

आपका शरीर जितना अधिक थका हुआ होता है, आपका दिमाग उतना अधिक क्रिएटिव हो जाता है। 

साइकोलॉजी  के अनुसार

जिस घर में ज्यादा लड़ाई-झगड़े होते हैं, उस घर के बच्चों पर ठीक वैसा ही प्रभाव पड़ता है जैसे युद्ध का सैनिकों पर। 

साइकोलॉजी  के अनुसार

सुबह की पहली शुरुआत ही आपके दिमाग को यह संकेत देती है कि आपका दिन कैसा होगा। अगर आपका दिन खराब होता है तो इसमें आपकी गलती नहीं होती बल्कि आपकी सुबह की शुरुआत की होती है।