व्युत्क्रम कपालभाति के फायदे, कैसे करें एवं अन्य जानकारियां : Vyutkrama Kapalbhati Benefits in Hindi

Vyutkrama Kapalbhati Benefits in Hindi: स्वस्थ शरीर का मतलब केवल रोगों से मुक्त शरीर नहीं होता है, इसके साथ ही साथ एक संतुलित आहार, सही वजन और सही प्रकार से मानसिक नियंत्रण भी जरूरी होता है इन सभी के लिए योग एक संजीवनी के रूप में साबित हो सकता है l योग मनुष्य को शारीरिक मानसिक दोनों प्रकार से स्वस्थ रखने का काम करता है । वैसे तो योग के बहुत से प्रकार होते हैं लेकिन आज हम अपने लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि व्युत्क्रम कपालभाति के बारें में ( Vyutkrama Kapalbhati ), कैसे करें (Vyutkrama Kapalbhati Steps), व्युत्क्रम कपालभाति के फायदे( Vyutkrama kapalbhati Benefits) , इसके
सावधानियां( Vyutkram Kapalbhati  Precautions)एवं व्युत्क्रम कपालभाति से जुड़ी अन्य जानकारी के बारे में .

व्युत्क्रम कपालभाति क्या है  : Vyutkrama Kapalbhati in Hindi

व्युत्क्रम कपालभाति ( Vyutkrama Kapalbhati Benefits) सत्कर्म या हठ योग की 6 शुद्धिकरण प्रथाओं के लिए आवश्यक है । संस्कृत में कपाल का अर्थ होता है – खोपड़ी और भांति का अर्थ होता है चमकना। 
यह खोपड़ी से प्रदूषक तत्व को साफ करता है और चेहरे को चमकदार बनाता है। यह प्रशिक्षण आम तौर पर दिन की शुरुआत में किया जाता है । संभव हो तो दांतों की सफाई करने के बाद ।

व्युत्क्रम कपालभाति ( Vyutkrama Kapalbhati ) की विविधता में से एक है,कपालभाति या खोपड़ी चमकने की तकनीक।
जहां तक पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप सांस  कैसे लेते है  , जिस  विधि का संदर्भ पहले दिया गया है रणनीति यह है कि इसे जल्दी से करें ,अपने पेट को अंदर खींचे और इस छोटे-छोटे टुकड़ों में करें ।

व्युत्क्रम कपालभाति  ( Vyutkrama Kapalbhati Benefits)  या खोपड़ी स्पार्कलिंग श्वास प्रक्रिया की किस्म में से एक है इसका उल्लेख योग ग्रंथ घेरंड  संहिता में मिलता है । व्युत्क्रम कपालभाति में पानी को नाक के माध्यम से खींचा जाता है और मुंह के माध्यम से निकाला जाता है । यह साइनस संबंधी समस्याओं को खत्म करने और नाक के गड्ढे और गले को साफ करने में लाभदायक होता है ।

यह लेख भी पसंद आएंगे :: सुप्त पवनमुक्तासन के फायदे , कैसे करें , सावधानियां एवं अन्य जानकारी ।

girl doing Vyutkrama Kapalbhati benefits in hindi
credit : freepik.com

व्युतक्रम कपालभाति के फायदे : Vyutkrama Kapalbhati Benefits in Hindi

1)  इस प्राणायाम  (Vyutkrama Kapalbhati ) को करने से गला साफ रहता है और नैजल  कैविटी नहीं होती ।


2) व्युत्क्रम कपालभाति  नाक के गड्ढे और गले के श्लेष को साफ करता है ।

3) इस प्राणायाम को करने से आपका मानसिक स्वास्थ्य ठीक रहता है, डिप्रेशन के लक्षण काम होते हैं ।

4) इस प्राणायाम को करने से हाई बीपी की समस्या कम हो जाती है ।

5)  घेरडा  संहिता में कहा गया है कि यह व्यायाम कफ  दोष को खत्म करता है और शरीर को अच्छा लाभदायक स्वास्थ्य और ऊर्जा प्रदान करता है ।

व्युत्क्रम कपालभाति कैसे करें (Vyutkrama kapalbhati Steps in Hindi)

1.  अभ्यास शुरू करने के लिए हल्के गर्म पानी का कटोरा ले । आप एक बड़ा चम्मच नमक( 1 लीटर पानी में ) मिला ले गर्म नमक का अपनी नाक गुहा की श्लेस्मा  परत को साफ करने में मदद करता है और जलन से बचाता  हैं ।

2.  व्युत्क्रम कपालभाति (Vyutkrama kapalbhati in Hindi)अभ्यास खड़े होकर करना चाहिए ।

3.  अपनी हथेलियां को कप कर ले और उसमे पानी इकट्ठा कर ले । हथेलियां को अपनी नासिका के पास ले जाएं ।

4. अपने सर को अपने सिर को पीछे की ओर एक कोण पर झुकाए और नाक में पानी डालें । इसके लिए शुरूआत में थोड़े अभ्यास की आवश्यकता पड़ेगी कुछ लोग नाक को झुकाने और उसमें पानी डालने के लिए किसी बर्तन या गिलास का भी प्रयोग कर सकते हैं ।

5.  अभ्यास (Vyutkrama kapalbhati Steps) से पानी गले में उतर जाएगा और मुंह के रास्ते  बाहर निकल जाएगा ।

6.   अच्छा सफाई प्रभाव पाने के लिए आप इस प्रक्रिया को कुछ बार दोहरा सकते हैं ।

ध्यान देने योग्य बातें :

1) इस बात का ध्यान रखें की पानी में नमक अच्छी तरह से घुल जाए।
2 ) आप इस बात का ध्यान रखें कि आप अभ्यास तब तक ना करें जब तक जलनीति के अभ्यास में निपुण ना हो जाए ।
3) इस अभ्यास को करने के लिए सुबह का समय ही सबसे महत्वपूर्ण है ।
4) वर्षा ऋतु में इस अभ्यास को करने से बचें।
5) इस अभ्यास (Vyutkrama kapalbhati Steps) को करने के बाद विशेष बात आप नाक को अच्छी तरह से सूखा ले । सूखने के बाद आप अपने नाक के दोनों छिद्रों में दो-तीन बूथ तेल या घी डाल सकते हैं इससे जो भी  थोड़ा बहुत पानी रहेगा वह निकल जाएगा।

व्युत्क्रम कपालभाति करते समय सावधानियां : Precautions of Vyutkrama Kapalbhati

1) मस्तिष्क और नेत्रों से संबंधित कोई गंभीर रोग होने पर चक्कर आने पर मिर्गी की समस्या होने पर अपने आप न करें चिकित्सक  सलाह लेकर ही इस अभ्यास को करें ।
2) कृपया इस अभ्यास को करने के लिए आप किसी के मार्गदर्शन में ही करें।
3)  गर्भवती महिलाओं को इस अभ्यास को करने से बचना चाहिए।
4) व्युत्क्रम कपालभाति (Vyutkrama Kapalbhati ) करने से कुछ देर पहले और बाद में कुछ भी खाने या पीने से बचें ।
5) जिन लोगों को खून से जुड़ी बीमारी शिकायत है उन्हें व्युत्क्रम कपालभाति नहीं करना चाहिए ।

महत्वपूर्ण सूचना : कपालभाति प्राणायाम आप अकेले प्रैक्टिस कर सकते हैं  पर आप व्युत्क्रम कपालभाति को प्रेक्टिस(Vyutkrama kapalbhati Steps) करने के लिए आपको एक्सपर्ट की सहायता लेनी चाहिए और डॉक्टर की सलाह पर ही इन्हें अभ्यास करें ।

Conclusion ( निष्कर्ष  )

व्युत्क्रम कपालभाति (Vyutkrama Kapalbhati Benefits in Hindi ) का एक प्रकार है इसके अनेकों लाभ है जिससे शरीर के कई परेशानियों से राहत पाया जा सकता है।  शरीर में शरीर में शारीरिक मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान होता है । कई अन्य प्रकार की गंभीर समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है । व्युत्क्रम कपालभाति का नियमित अभ्यास काफी लाभदायक होता है । इस योगासन को गलत तरीके से करने पर नुकसान भी हो सकता है ।

हम आशा करते हैं कि आपको यह लेख व्युत्क्रम कपालभाति के फायदे ( Vyutkrama Kapalbhati Benefits ) पसंद आया होगा । इस लेख में हमने जाना कि व्युत्क्रम कपालभाति (Vyutkrama Kapalbhati in Hindi) के बारे में , कैसे करें  (Vyutkrama Kapalbhati Steps) आदि विषयों के बारे में जाना है ।अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल पूछना हो या राय देना है तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं ।हमसे जोड़ने के लिए हमारे सोशल मीडिया पेज को आप फॉलो कर सकते हैं।

Disclaimer :

यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है और किसी स्वास्थ्य से संबंधित सलाह की जगह नहीं है ज्ञानी वेब इसकी पुष्टि नहीं करता किसी भी चिकित्सा निर्णय उपचार डाइट इत्यादि का निर्णय लेने से पहले आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

यह लेख भी पसंद आएंगे :: अर्द्ध उष्ट्रासन के फायदे, कैसे करें  एवं अन्य जानकारियां

यह लेख भी पसंद आएंगे ::बेबी ग्रासहॉपर पोज के फायदे, कैसे करें एवं अन्य जानकारियां

Leave a Comment