वातक्रम कपालभाति के फायदे , कैसे करें एवं सावधानियां : Vatakrama Kapalbhati Steps in Hindi

हेलो दोस्तों आप सब कैसे हैं ? उम्मीद हैं कि आपसब ठीक होगे।
आज हम आपसे बात करेंगे  एक और योगासन (Yogasana) के बारे में जिसका नाम है , वातक्रम कपालभाति (Vatakrama Kapalbhati )। अब हम आगे बढ़ते हैं और वातक्रम कपालभाति   ( Vatakarma Kapalbhati Pranayam ) के बारे में पूर्ण जानकारी लेते हैं। वातक्रम कपालभाति क्या है? ( Vatakrama Kapalbhati in Hindi ) , वातक्रम कपालभाति के फायदे ( Vatakrama Kapalbhati  Benefits ) , वातक्रम कपालभाति कैसे करें ( Vatakrama Kapalbhati Steps in Hindi ), वातक्रम कपालभाति की सावधानियां (Vatakrama Kapalbhati Precautions in Hindi) एवं अन्य जानकारी के बारे में इस लेख में हम चर्चा करेंगे।

girl doing vatakrama kapalbhati steps in hindi images
credit : freepik.com

वातक्रम कपालभाति क्या है (Vatakrama Kapalbhati in Hindi )

योग की दुनिया में , सांस लेना एक कला का रूप माना जाता है , प्राणायाम “जीवन शक्ति नियंत्रण” के लिए संस्कृत शब्द श्वास तकनीक की एक श्रृंखला है जो हमारे शरीर के माध्यम से बहने वाले प्राण या जीवन शक्ति पर नियंत्रण पाने में हमारी सहायता करता हैं।

वातक्रम कपालभाति (Vatakrama Kapalbhati in Hindi )   , कपालभाति का सबसे सामान्य प्रकार है। इसमें रीढ़ की हड्डी को सीधा करके आरामदायक स्थिति में बैठना होता है। उसके बाद अपनी एक उंगली से नाक के छेद को बंद करता है और  दूसरे नाक के छेद से सांस खींचता है और फिर यही क्रिया रिपीट करता है। आपको प्राणायाम के फायदे उठाने हैं,तो इन्हें सुबह के समय करें साथ ही इन्हें करने के बाद और पहले कुछ ना खाएं।

यह लेख भी पसंद आएंगे : व्युत्क्रम कपालभाति के फायदे,  नुकसान कैसे करें एवं अन्य जानकारियां

वातक्रम कपालभाति के फायदे : (  Vatakrama Kapalbhati Benefits )

1. इस प्राणायाम को करने से अस्थमा या फेफड़ों से संबंधित रोग नहीं होते ।
2. पाचन तंत्र को उत्तेजित करने में वातक्रम कपालभाति सहायता करता है।
3. इस प्राणायाम ( Vatakrama Kapalbhati Pranayam )  को करने से स्किन ग्लोइंग बनती है और डेड स्क्रीन सैल्स निकल जाते हैं।
4. इस प्राणायाम को करने से फेफड़ों की क्षमता में वृद्धि होती है , श्वसन की मांसपेशियों को मजबूत करके और सामान्य फेफड़ों के कार्य को बढ़ाकर , यह  विभिन्नता फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाती है।
5.  एंजायटी डिप्रैशन और नसों की समस्या को दूर करने के लिए, यह प्राणायाम फायदेमंद (Vatakrama Kapalbhati Benefits)  है।

women doing vatakrama kapalbhati steps in hindi thumbnail  images
credit : freepik.com

वातक्रम कपालभाति कैसे करें : ( Vatakrama Kapalbhati Steps in Hindi )

1. इस आसन को करते समय सबसे पहले आरामदायक मुद्रा में बैठना होता है।

2. रीढ़ की हड्डी को सीधा रखते हुए ध्यान की मुद्रा बनाएं रखे।

3. अब गहरी सांस  लें और  नाक के द्वारा ही छोड़े।

4 . नाक के द्वारा ही सांस को बाहर निकलना होता है।

5.  सांस को बाहर निकलते समय पेट को अंदर की ओर खींचना है।

6. मुंह को बंद रखते हुए आपको सांस छोड़ना या लेना है।

7. आपको नाक से ही सांस लेना है, और नाक के द्वारा ही सांस छोड़ना है।

वातक्रम कपालभाति की सावधानियां : ( Vatakrama Kapalbhati Precautions in Hindi )

1. खाने के तुरंत बाद कपालभाति करने से बचे।  अपने पाचन को व्यवस्थित होने में काम से कम 1 घंटे का समय दें।

2. कपालभाति करते ( Vatakrama Kapalbhati Steps in Hindi)  समय अपने नाक से सांस लेने। मुंह से सांस लेने में असुविधा और सूखापन हो सकता है।

3. शुरुआती चरण में इस अभ्यास को ज्यादा ना करें। अपने शरीर पर ध्यान दें ,और आवश्यकता पड़ने पर रुके।

4. यदि आपको उच्च रक्तचाप या हृदय संबंधित कोई बीमारी हो, तो किसी चिकित्सीय सलाह के बगैर कपालभाति ना करें।

Conclusion ( निष्कर्ष )

वातक्रम कपालभाति प्राणायाम ( Vatakrama Kapalbhati Pranayam ) एक ऐसा प्राणायाम है जो हमारे मस्तिष्क को स्वस्थ रखता है एवं चेहरे पर चमक लाने का भी काम करता है । इस आसन को करने से हमारे नाक और गले में फंसे श्लेष्मा को दूर करने की यह आसान विधि है। यह आसान हमारे शारीरिक एवं मानसिक बीमारियों को दूर करने के साथ-साथ कई अन्य गंभीर बीमारियों को कम करने में वातक्रम कपालभाति मददगार साबित हुआ है। इस आसन को गलत तरीके से करने पर नुकसान भी हो सकता है ,इसलिए जब भी हम इस आसन को करें तो किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूर ले लें।


 हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख वातक्रम कपालभाति कैसे करें  (Vatakrama Kapalbhati Steps in Hindi ) आपको पसंद आई होगी। इस लेख में हमने जाना कि वातक्रम कपालभाति के फायदे (Vatakrama Kapalbhati Benefits in Hindi ), वातक्रम कपालभाति कैसे करें ,  वातक्रम कपालभाति की कुछ सावधानियां है ( Vatakrama Kapalbhati Precautions in Hindi ) , इसके बारे में हमने जाना।
अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल पूछना हो या फिर अपनी राय देनी हो, तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं । हमसे जुड़ने के लिए हमारे सोशल मीडिया पेज को फॉलो कर सकते हैं।

Disclaimer :- यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है और किसी भी स्वास्थ्य संबंधित सलाह की जगह नहीं है। ज्ञानी वेब व इसकी ,पुष्टि नहीं करता है, किसी भी चिकित्सा निर्णय  उपचार, डाइट इत्यादि निर्णय लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

यह लेख भी पसंद आएंगे : अनुवित्तासन योगासन के फायदे, कैसे करें, सावधानियां एवं अन्य जानकारी

Leave a Comment