त्रि पाद अधो मुख संवासन के फायदे , कैसे करें एवं सावधानियों : Tri Pada Adho Mukha Svanasana Benefits

Tri Pada Adho Mukha Svanasana Benefits: इस लेख में हम एक और नए आसन के बारे में बात करेंगे जिसका नाम है त्रि पाद अधो मुख संवासन ( Tri Pada Adho Mukha Svanasana ) त्रि पाद अधो मुख संवासन हमारे शरीर और दिमाग के लिए एक बेहतरीन आसान के रुप में साबित हो सकता है. तो आईए हम जानते है  त्रि पाद अधो मुख संवासन क्या है ( Tri Pada Adho Mukha Svanasana in Hindi ) , त्रि पाद अधो मुख संवासन के फायदे (Tri pada Adho Mukha Svanasana Benefits ) , त्रि पाद अधो मुख संवासन कैसे करें (Tri Pada Adho Mukha Svanasana Steps in Hindi ) , त्रि पाद अधो मुख संवासन की कुछ सावधानियां , नुकसान एवं अन्य जानकारी के बारे में बात करेंगे ।

women doing Tri Pada Adho Mukha Svanasana Benefits
credit : freepik.com

त्रि पाद अधो मुख संवासन क्या है (Tri Pada Adho Mukha Svanasana in Hindi ) :–

त्रि पाद अधो मुख संवासन को एक और नाम से भी जाना जाता है , जिसे थ्री– लेग्ड  डाउनवर्ड–फेसिंग डॉग पोज (Three Legged Downward Facing Dog in Hindi ) के रूप में जाना जाता है। जिसे तीन पैरों वाला अधो मुख संवासन भी कहा जाता है, एक शक्तिशाली एवं स्फूर्तिदायक आसान है जो आपकी ताकत और संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। इस मुद्रा में एक पैर आसमान की ओर उठाया जाता है जबकि बाकी दो पैर चटाई पर टिके रहते है यह भिन्नता मुद्रा में एक अतिरिक्त चुनौती जोड़ती है।

त्रि पाद अधो मुख संवासन के फायदे (Tri Pada Adho Mukha Svanasana Benefits )

त्रि पाद अधो मुख संवासन शरीर और दिमाग के लिए कई प्रकार से लाभ पहुंचता है, जो एक शक्तिशाली योग मुद्रा है।

1. रीढ़ की हड्डी और कंधों में लचीलापन बढाता है.

2. हैमस्ट्रिंग और पिंडलियों को खिंचाव देता है। इस आसन (Three Legged Downward Facing Dog Benefits) में फैला हुआ पर हैमस्ट्रिंग और पिंडलियों को गहरा खिंचाव प्रदान करता है। इस मुद्रा का नियमित अभ्यास में मांसपेशियों को लंबा कर सकता है, लचीलापन बढ़ा सकता है और आपकी गति की समग्र सीमा में सुधार कर सकता है।

3. भुजाओं ,कंधों और कोर की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है ।

4. संतुलन और स्थिरता में सुधार करता है।

5. मन को शांत करता है , तनाव और चिंता से राहत देता है।

6. कोर की मांसपेशियों को टोन करता है। आप जैसे ही अपने एक पैर को विभाजित स्थिति में जमीन से ऊपर उठाते हैं, यह स्थिरता और संतुलन को बनाए रखने के लिए कोर की मांसपेशियों को सक्रिय करता है।

त्रि पाद अधो मुख संवासन  कैसे  करें  (Tri Pada Adho Mukha Svanasana Steps in Hindi )

1. अपने हाथों को कंधे की चौड़ाई पर और अपने पैरों को कूल्हे की चौड़ाई पर अलग करके अधो मुख संवासन शुरू करें। अपनी उंगलियों को फैलाएं और अपनी हथेलियां को चटाई में मजबूती से दबाएं ।

2. अपनी मांसपेशियों को संलग्न करें। अपने दाहिने पैर को छत की ओर ऊपर उठाएं। अपने कूल्हो को जमीन की ओर समतल और चौकोर रखें।

यह लेख भी पसंद आएंगे :: :बेबी ग्रासहॉपर पोज के फायदे, कैसे करें एवं अन्य जानकारियां

3. अपना दाहिना पैर इंगित करें।अपने बाएं पैर के माध्यम से नीचे जड़े।

4. कुछ सांसों के लिए इस मुद्रा में बने रहे, अपने कोर को व्यस्त रखने और अपने कंधों को आराम देने पर ध्यान केंद्रित करें।

5. धीरे-धीरे अपने दाहिने पैर को वापस जमीन पर लाएं और अपने बाएं पैर के साथ भी यही चरण दोहराएं।

त्रि पाद अधो मुख संवासन की सावधानियां (Precautions  of Tri Pada Adho Mukha Svanasana )

1. अगर आपको त्रि पाद अधो मुख संवासन करते समय कोई दर्द या असुविधा महसूस होती है, तो तुरंत मुद्रा से बाहर आए ।

2. अगर आपकी कलाई , कंधे या पीठ में चोट लगी है, तो इस योगासन को करने से बचे।

3. इस आसन को खासकर गर्भावस्था में, गर्भवती महिला को नहीं करना चाहिए।

4. यदि आपके उच्च रक्तचाप है, या सिर दर्द या फिर चक्कर आने की संभावना है तो इस आसन को करने से बचे।

5. अगर आपका हाल ही में पेट की सर्जरी हुई हो या फिर पेट की कोई और स्थिति हो तो इस मुद्रा को करने या फिर संशोधन करने की सलाह दी जाती है।

Conclusion (निष्कर्ष ) :

त्रि पाद अधो मुख संवासन ( Tri Pada Adho Mukh Svanasana in Hindi ) जिसे हम थ्री– लेग्ड डाउनवर्ड– फेंसिंग डॉग पोज ( Three Legged Downward Facing Dog in Hindi) के नाम से भी जानते हैं। जो एक शक्तिशाली एवं स्फूर्ति दायक आसान है, जो आपकी ताकत और संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। इसके कुछ फायदे हैं तो कुछ सावधानियां भी हैं जो गलत तरीके से करने से नुकसान भी हो सकता है।


     हम आपसे यही आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख त्रि पाद अधो मुख संवासन के फायदे ( Tri Pada Adho Mukha Svanasana Benefits), त्रि पाद अधो मुख संवासन कैसे करें (Tri Pada Adho Mukh Svanasana Steps in Hindi ) त्रि पाद अधो मुख संवानस की कुछ सावधानियां के भी बारे में भी हमने जाना। अगर आपको किसी भी प्रकार का सवाल पूछना हो या फिर अपनी राय देनी हो तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं। हमसे जुड़ने के लिए हमारे सोशल मीडिया पेज आप फॉलो कर सकते हैं।

Disclaimer :

यह लेख एक केवल सामान्य जानकारी के लिए है और किसी भी स्वास्थ्य संबंधी सलाह की जगह नहीं है। ज्ञानी वेब इसकी पुष्टि नहीं करता , किसी भी चिकित्सा निर्णय उपचार डाइट इत्यादि का निर्णय लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

यह लेख भी पसंद आएंगे ::अर्द्ध उष्ट्रासन के फायदे, कैसे करें  एवं अन्य जानकारियां

Leave a Comment