Hindu Pushups in Hindi : पहलवान जैसी ताकत देती है यह एक्सरसाइज , जानिए पूरी जानकारी



सबसे प्रभावी एवं बेसिक एक्सरसाइज़ों (Basic Exercise ) में सबसे पहले नाम पुशअप्स (Pushups) का आता है. अपर बॉडी स्ट्रैंथ (Upper Body Strength ) को मेंटेन करने के लिए पुशअप्स एक्सरसाइज (Pushups Exercise ) बहुत प्रभावित होती हैं लेकिन सिर्फ एक ही तरह के पुशअप करने से आप बोर हो सकते हैं . इसीलिए चलिए जानते हैं हिंदू पुशअप्स (Hindu Pushups) के बारे में जो की पुशअप्स का ही एक part है .


Hindu Pushups ( हिंदू पुशअप्स) :

an attractive man doing hindu pushups
source : freepik


भारतीय पहलवान इस एक्सरसाइज को दंड के नाम से जानते हैं. यह नॉर्मल पुशअप एक्सरसाइज से थोड़ा अलग है एवं फुल कंपलीट बॉडी (Complete Body Exercise) एक्सरसाइज है. यह एक होम वर्कआउट एक्सरसाइज ( Home Workout Exercise ) है जिसे हम कहीं भी कर सकते हैं इसमें किसी भी प्रकार के जिम इक्विपमेंट की आवश्यकता नहीं पड़ती है.
इस एक्सरसाइज को करने से शरीर की मांसपेशियां मजबूत होती हैं उसके साथ ही तमाम तरह की फायदे( Hindu Pushups Benefits )होते हैं जो हम आगे पढ़ेंगे.


हिंदू पुशअप्स के फायदे ( Hindu Pushups Ke Fayde) : Benefits of Hindu Pushups in Hindi –


1) गर्दन मजबूत बनती है ( Neck Strong ) :


पहलवानी के दाव पेंच करते समय गर्दन पर चोट लगने का काफी खतरा होता है इसीलिए इससे बचने के लिए इस एक्सरसाइज को जरूर किया जाता है. नॉर्मल पुशअप में गर्दन पर कम असर पड़ता है. अगर आप रोज इस हिंदू पुशअप्स (Hindu Pushups) को प्रैक्टिस में लाते हैं तो आपके गर्दन के सर्वाइकल ( Cervical ) से सुरक्षा मिलती है.


2) पोस्चर सही होता है ( Hindu Pushups Benefits in Posture)


आज के समय हर इंसान मोबाइल और लैपटॉप के यूज से नेक में प्रॉब्लम होती है. इस प्रॉब्लम से आपका पोस्चर बिगड़ जाता है और नेक आगे की तरफ झुक जाता है. यह समस्या गर्दन दर्द , पीठ दर्द आदि जैसी बहुत सी समस्याएं पैदा कर सकती है , जिन्हें हिंदू पुशअप्स करके इसे सुधारा जा सकता है.


3) शरीर और दिमाग का संतुलन ( Hindu Pushups Benefits in Mental Health )

हमारे शरीर के बारे में संतुलन होता है , जिसके लिए गर्दन के आवश्यकता पड़ती है , दरसल ठीक पोस्चर के लिए हमारे दिमाग का पिछला हिस्सा रीढ़ की हड्डी के ऊपर होना चाहिए. यह हमारे शरीर के लिए जरुरी होता है. मगर हमारे गलत जीवन शैली और गलत पोस्चर के नाते यह बिगड़ जाता है. और हमें कई शारीरिक एवं मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है.


4) मांसपेशियों को मजबूत ( Hindu Pushups Gives strength to body )

यह एक्सरसाइज छाती एवं पेक्टोरल मांसपेशियों को मजबूत बनाने के साथ कंधों , बाहों एवं गर्दन को सही से एलाइन करने में मदद करता है . इस प्रकार के एक्सरसाइज से शरीर के स्ट्रेंथ बढ़ाने के साथ शरीर के लचीलेपन में भी सुधार आती है .
शरीर के मजबूत होने से और भी अन्य एक्सरसाइज के करने में मदद मिलती हैं.


5) हिंदू पुशअप्स में छुपा है यह योगासन :

नॉर्मल पुशअप सिर्फ शरीर को मजबूत बनाती है वहीं हिंदू पुशअप्स मजबूती के साथ साथ शरीर को लचीलापन भी प्रदान करती है क्योंकि भुजंगासन शरीर को लचीलता परदान करने में मदद करती है. इस एक्सरसाइज से कमर में एक लचक पैदा होती है.


हिंदू पुशअप्स कैसे करें ( Hindu Pushups Kaise karen ) : How to do Hindu Pushups in Hindi ) –


1 ) सबसे पहले थोड़ा वार्मअप करके मांसपेशियों को गतिशीलता में लाए , ताकि व्यायाम में अधिक फ्लेक्सिबिलिटी आ जाए . इसके बाद शरीर को पुशअप पोजिशन में लाए और पीठ को सीधा रखें.
2) शरीर को नीचे की ओर डॉग पोज में ले कर आए . फिर अपने बट्स को हवा में लाएं और शरीर से “वी” शेप बनाएं.
3) फिर अपनी कोहनी मोड़ें और छाती को नीचे लेकर आए , ध्यान रखें कि आपकी पीठ जमीन से समांतर ( Parallel) हो.


4) अपनी पीठ को झुकाएं और छाती को बाहर की ओर धकेले .अपनी बाहों को सीधा करें और शरीर से उल्टा “L” शेप बनाने की कोशिश करें. ध्यान रहे आपके कूल्हे फर्श को न छूने पाए और इस पोजीशन में खुद को कुछ देर होल्ड करके रखें.


5) एक्सरसाइज को पूरा करने के लिए शुरुआती स्थिति में आ जाए .अपने पेट को धीरे-धीरे नीचे करें और अपने कूल्हों को उठाएं , इन्हें पीछे धकेले और अपने कोर और ग्लूट्स को भी इंगेज करने के कोशिश करें. फिर अपनी बाहों को सीधा करें और फिर शरीर को स्क्वाट पोजिशन में लेकर आएं.
6) अब इसे दोहराएं , कम से कम 3 – 4 सेट जरूर लगाए और हर एक सेट में 10 से 12 रेप्स होने चाहिए. अगर आप एक बिगनर है तो शुरुआत में आप 3 – 5 रेप्स तक सीमित रह सकते हैं.


आप जब भी एक्सरसाइज को प्रेक्टिस करें ध्यान रहे कि आपकी breathing बॉडी से एलाइन रहे. हमेशा नाक से सांस ले.

source : gharelunuskheag


FAQ :


1) हिंदू पुशअप्स करने से क्या होता है?
: हिंदू पुश-अप्स छाती, कंधे, ट्राइसेप्स, पीठ और कोर सहित विभिन्न मांसपेशी समूहों पर काम करते हैं। यह मांसपेशियों की सहनशक्ति को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है।
2) 1 दिन में कितने पुश अप करनी चाहिए?
: आप अगर एक बार में 50 से कम पुश-अप्स करते हैं तो आप एक दिन में 100 से अधिक और 150 से कम पुश-अप्स करें। किसी भी प्रकार के बॉडी में दर्द होने पर उस एक्सरसाइज को वहीं तुरंत रोक दें.
3) हिंदू पुशअप्स या पुश अप्स में से कौन सा बेहतर है?
:हिंदू पुशअप्स उच्च गति सीमा के कारण मांसपेशियों पर अधिक भार डालता है और शुरुआती लोगों के लिए आसान है.

Source :

और पढ़ें : Wall Squat Exercise in Hindi : वॉल स्क्वाट कैसे करें , प्रकार , फायदे , गलतियां आदि .

Leave a Comment